Trending

EOW सेल ने एक ठग को गिरफ्तार किया

EOW सेल ने एक ठग को गिरफ्तार किया

EOW सेल ने एक ठग को गिरफ्तार किया
EOW Cell

नई  दिल्ली : (अर्श न्यूज़ ) – EOW टीम ने किया एडवर्टाइज कंपनी को 2.25 करोड़ का चूना लगाने वाले कर्मचारी को गिरफ्तार

गिरफ्तार आरोपी पेशे से इंजीनियर है और कई बड़ी-बड़ी कंपनियों में भी दे चुका अपनी सेवाएं

EOW सेल ने एक ठग को गिरफ्तार किया

आरोपी की पहचान नितिन सेंगर के रूप मे हुई है, अभी तक 35 लोगों के साथ कर चुका है ठगी

EOW सेल ने एक ठग को गिरफ्तार किया

दिल्ली पुलिस के हाथ एक बड़ी कामयाबी लगी है। EOW सेल ने फर्जी कंपनी बनाकर करोडो रुपए की चीटिंग करने के आरोप मे एक हाई प्रोफाइल युवक को गिरफ्तार किया है। आरोपी की पहचान नितिन सेंगर के रूप मे हुई है। पुलिस के मुताबिक आरोपी कई बड़े मीडिया संस्थानों मे काम कर चुका है। इसी का फायदा उठा कर आरोपी कंपनीयो को  Advertasing देने का लालच देते थे, बाद मे उसकी रकम को फर्जी कंपनी के माध्यम से खुद अपने पास मंगवाते थे। आरोपी ने करीब 2.25 करोड रुपए की हेराफेरी की है। आरोपी पेशे से इंजीनियर है और कई बड़ी-बड़ी कंपनियों में अपनी सेवाएं भी दे चुका है। आरोपी पर पहले से दिल्ली के आई पी स्टेट थाने मे मुकदमा दर्ज है, पुलिस को आरोपी की काफी समय से तलाश थी।

EOW सेल ने एक ठग को गिरफ्तार किया

EOW सेल के DCP रवि शर्मा ने बृहस्पतिवार  को  मीडिया से बातचीत करते हुए बताया कि

एक शिकायतकर्ता कंपनी मैक्स्पोज़र मीडिया ग्रुप के आधार पर मामला दर्ज किया गया था। कंपनी भारत, बहरीन साम्राज्य, संयुक्त अरब, अमीरात बांग्लादेश और सिंगापुर जैसे 5 देशों में शुभ यात्रा विस्तारा व्यंगा गल्फ एयर आदि जैसी 12 इन फ्लाइट पत्रकारों सहित 35 से अधिक कस्टम पत्रिकाओं की प्रकाशन करती है। कंपनी ने अपनी शिकायत में आरोप लगाया कि कंपनी में तत्कालीन महाप्रबंधक विभाग मैं नितिन सिंह ने अपनी पत्नी संध्या सिंह और पिता योगेंद्र सिंह सेंगर और भाभी सुषमा सिंह के साथ मिलीभगत की। उन्होंने मिलकर शिकायतकर्ता की कंपनी के धन का दुरुपयोग किया। कंपनी के साथ चीटिंग की और उनकी कंपनी के धन का दुरुपयोग कर ग्लोबल मीडिया, पीआर कम्यूनिक और मीडिया फ्रेंड्स के नाम पर तीन सेल कंपनियों के माध्यम से संध्या सिंह योगेंद्र सिंह के साथ साजिश किया और कंपनी के अधिकारी की ईमेल आईडी के माध्यम से गलत तरीके से उनके पैसों का यूज़ किया गया।

इस पूरे मामले में ईओडब्ल्यू में मामला दर्ज किया गया जांच शुरू कर दी गई। अपराध की गंभीरता को भागते हुए और आरोपी को गिरफ्तार करने के लिए एसीपी रमेश कुमार नारंग के नेतृत्व में एक टीम का गठन किया जिसमें एसआई मनोज कुमार कांस्टेबल राजेंद्र मीणा, संदीप को शामिल किया गया। जांच के दौरान शिकायतकर्ता की जांच की गई और संबंधित दस्तावेज एकत्र किए गए। शिकायतकर्ता कंपनी के साथ साथ कथित व्यक्तियों के बैंक रिकॉर्ड भी एकत्र किए गए सभी डॉक्यूमेंट को जांच करने पर पता चला कि 2.25 करोड़ लगभग आरोपी व्यक्तियों द्वारा उनके परिवार के सदस्यों की मिलीभगत से अलग-अलग कंपनियों के माध्यम से गबन किया गया है। ई-मेल और उनके हैदर की भी जांच की गई और उनका विश्लेषण किया गया जिससे पुष्टि हुई कि शिकायतकर्ता कि कंपनी के ईमेल संसाधनों का उपयोग वर्तमान आरोपी द्वारा किया जा रहा था। जिसके माध्यम से वह अंतरराष्ट्रीय ग्राहकों को उनके द्वारा नियंत्रित तेल कंपनियों के माध्यम से अपना व्यवसाय चलाने के लिए प्रेरित करता था।

आगे की जानकारी में पता चला कि उसके परिवार के सदस्य भी इसमें शामिल थे। यह भी पता चला कि आरोपी नितिन सेंगर ने झूठे बिल बनाए जिसके माध्यम से उसने अपने विदेश प्रवास के डोरे और होटल के ब्लॉक हुए खर्च की प्रतिपूर्ति का दावा किया था। जिसके बाद EOW की टीम ने एक जाल बिछाया और जाल बिछा कर आरोपी को दिल्ली से गिरफ्तार कर लिया गया। जांच में यह भी सामने आया है कि आरोपी साल 2002 में दैनिक भास्कर समाचार में एक विज्ञापन बिक्री प्रबंधक के रूप में शामिल हुआ था जिसके बाद 2004 में वहां से इस्तीफा देने के बाद टाइम्स ऑफ इंडिया में शामिल हो गया। 2006 से 2010 तक वही रहा इसके बाद बिजनेस इंडिया मैगजीन में वह मुख्य प्रबंधक के रूप में वर्ष 2010 से 2 साल 2012 तक कार्य किया। आरोपी कई कंपनियों में अपनी सेवाएं दे चुका है।

फिलहाल आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है और लगातार पूरे मामले की जांच की जा रही है। लगातार पूछताछ के दौरान दिए गए वयान की पूरी तरह से जांच भी की जा रही है कि आरोपी झूठ बोल रहा है या सच। आरोपी अभी तक 35 लोगों के साथ ही है ठगी कर चुका है।

 

Live Share Market

विडिओ  न्यूज जरूर देखे 

जवाब जरूर दे 

आप अपने सहर के वर्तमान बिधायक के कार्यों से कितना संतुष्ट है ?

View Results

Loading ... Loading ...

Related Articles

Back to top button
Close
Close